बेंगलूरु। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय महासचिव और कर्नाटक में पार्टी मामलों के प्रभारी मुरलीधर राव ने रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (एआईसीसी) के अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा लगाए गए आरोपों को सिरे से खारिज कर दिया। उन्होंने राहुल के आरोपों को ’’अर्थहीन’’ और ’’मुख्य मुद्दों से ध्यान भटकाने का प्रयास’’ माना। राव ने कहा, ’’राहुल गांधी को हिम्मत नहीं है कि भाजपा द्वारा कर्नाटक में कानून-व्यवस्था ध्वस्त होने, कुशासन, निर्दोष युवकों की हत्या और सिद्दरामैया की अगुवाई वाली सरकार के कार्यकाल में किसानों की आत्महत्याओं के मामलों पर उत्तर दे। सो, राहुल गांधी ने लोगों का ध्यान भटकाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हमले की रणनीति बनाई है।’’ राव ने आज यहां पत्रकारों से बातचीत में कहा कि अगर कांग्रेस वर्ष २०१९ के लोकसभा चुनाव में केंद्र सरकार के काम-काज पर सवाल उठाती है तो भाजपा उन सवालों का समुचित उत्तर देने के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष से राज्य में पूर्ण अराजकता की स्थिति पर भाजपा के प्रश्नों का ’’विश्वसनीय और भरोसे के लायक’’ उत्तर देने की मांग की। उन्होंने कहा कि राज्य की सत्तासीन कांग्रेस सरकार के घमंडी तौर-तरीकों और खुद को संविधान से इतर और संविधान से उपर मानने वाले कांग्रेस विधायकों तथा उनके समर्थकों की गतिविधियों के कारण यहां हालात गंभीर हैं्। राव ने कहा कि इन गंभीर मुद्दों पर राहुल गांधी की चुप्पी बहुत कुछ बताती है।वहीं, राहुल गांधी द्वारा देश में बेरोजगारी की समस्या दूर करने में केंद्र सरकार की असमर्थता के बारे में लगाए गए आरोपों के उत्तर में राव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को देश में आत्मनिर्भर अर्थतंत्र विकसित करने में सफलता मिली है। केंद्र के प्रयासों से देश के लाखों युवा आज स्वरोजगार में जुटे हैं। वह केंद्र व राज्य सरकारों से नौकरी की भीख नहीं मांगते। वर्ष २०१४ के लोकसभा चुनाव के दौरान जब भाजपा ने बेरोजगारी दूर करने का वादा किया था तो उसका यही अर्थ था। राव ने कहा, ’’आज स्वरोजगार में जुटे युवा वर्ग के लाखों लोग देश के विकास की कहानी में पूरे गर्व के साथ भागीदारी कर रहे हैं्। आर्थिक रूप से यह आत्मनिर्भर युवा वर्ग अपने आप पर भी गर्व कर सकता है। वहीं, कांग्रेस की पूर्ववर्ती सरकारों ने दूसरों पर निर्भर अर्थतंत्र विकसित किया था। उस अर्थतंत्र का फायदा निहित स्वार्थी तत्वों को मिलता था। कांग्रेस उस दौर में एक परजीवी की तरह बर्ताव करती थी।’’राव ने दावा किया कि देश के हर राज्य ने प्रधानमंत्री की सर्व सवामेशी आर्थिक नीतियों का समर्थन किया है। इस सरकार ने ऐतिहासिक और क्रांतिकारी निर्णय लिए हैं। इनमें नोटबंदी, जीएसटी और मुद्रा योजनाएं भी शामिल हैं्। उन्होंने कहा, ’’इन योजनाओं की आलोचना जनता का अपमान करने जैसी बात होगी।’’ इसके साथ ही उन्होंने राहुल गांधी द्वारा भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और प्रदेश भाजपा अध्यक्ष बीएस येड्डीयुरप्पा पर किए गए हमले की भी तीखी निंदा करते हुए कहा कि सुप्रीम कोर्ट ने लंबी कानूनी जांच प्रक्रिया के बाद इन दोनों नेताओं को इनके खिलाफ लगे सभी आरोपों से मुक्त कर दिया है। इसका अर्थ यह है दोनों नेताओं को जेल भेजा जाना अपने आप में गलत था। अब यह एक गैर-मुद्दा बन चुका है। राहुल गांधी इस मुद्दे को उठाकर न्यायपालिका को अपमानित कर रहे हैं।

Share ThisTweet about this on TwitterShare on FacebookShare on LinkedInShare on Google+Pin on PinterestEmail this to someoneDigg thisFlattr the authorShare on StumbleUponShare on TumblrBuffer this pagePrint this page

Related Post

Type your Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *