18740207_1073343789432910_2522335581493756129_n

गाय और अन्य पशुओं के व्यापार को नियंत्रित करने का कानून भारतीय आत्मा और संस्कृति के अनुरूप देश का विकास करने में अत्यंत परिणामकारी रहेगा। यह कानून कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था में गत सैकड़ों वर्षों में ‘पशुधन को माँस के स्रोत के रूप में देखने’ की आयी विकृति को दूर करेगा। यह 50 वर्ष पूर्व 1967 में हुए गोहत्या विरोधी आंदोलन को सच्ची श्रद्धांजलि है।इस निर्णय ने आंदोलनकारियों के त्याग और बलिदान को व्यर्थ नहीं जाने दिया।